(अप्लाई कैसे करें ) हरियाणा चारा बिजाई योजना 2022 | ऑनलाइन आवेदन | एप्लीकेशन फॉर्म

join

हरियाणा चारा बिजाई योजना 2022 हिंदी में | हरियाणा चारा बिजाई योजना आवेदन | Haryana Chara Bijai Yojana Application Form | चारा बिजाई योजना ऑनलाइन पंजीकरण | चारा बिजाई योजना के अंतर्गत किसानों की पात्रता | सूखा चारा बिजाई योजना के अंतर्गत प्रोत्साहन राशि कितनी है | टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर | आर्थिक सहायता राशि |

हरियाणा में चारा संकट (fodder crisis in haryana) से निपटने के लिए सरकार एक नई योजना लेकर आ रही है. इस योजना का नाम है चारा बिजाई योजना. इसके तहत चारा उगाने वाले किसानों को प्रोत्साहित करने के मकसद से सरकार उन्हें अतिरिक्त सहायता राशि भी देगी.

Table of Contents

हरियाणा चारा बिजाई योजना 2022 क्या है

हरियाणा सरकार ने किसानों और पशुपालकों के लिए चारा बिजाई योजना (Chara Bijai Yojana) शुरू की है. जिसके तहत यदि कोई किसान 10 एकड़ भूमि तक चारा उगाकर उसे आपसी सहमति से गौशालाओं को देता है तो सरकार उसे 10 हजार रुपये प्रति एकड़ की दर से पैसा उपलब्ध करवाएगी. गवर्नमेंट का प्रयास है कि जो लोग हरियाणा राज्य में रहते हैं उन्हें आर्थिक सहायता दी जाए ताकि वह और भी चारा उगाने के लिए प्रोत्साहित हो। हरियाणा गवर्नमेंट ने अपनी योजना को चारा बिजाई योजना का नाम दिया है।

ये पैस सरकार की ओर से किसानों के खाते में सीधे जमा करा दिया जाएगा। इससे एक बात अच्छी होगी एक तो पशुओं को भरपेट चारा मिलेगा। इसके साथ ही किसानों को कुछ धनराशि मिल जाएगी जो उनके आगे समय में काम आएगी।

(आवेदन) PM किसान खाद्य योजना 2022 | PM Kisan Khad Yojana 2022

चारा बिजाई योजना शुरुआत क्यों करनी पड़ी

हरियाणा में चारा संकट- आपको बता दें कि हरियाणा में सूखे चारे खासकर गेहूं से बनने वाले भूसे (तूड़ी) का दाम सातवें आसमान पर पहुंच चुका है. पिछले सीजन जो भूसा करीब 300 रूपये प्रति क्विंटल था वो अब 700 के ऊपर मिल रहा है. थोक में किसान 7 हजार रुपये में एक एकड़ खरीद लेते थे. लेकिन उसका दाम अब 16 हजार रुपये को पार कर गया है. सामान्य किसान के लिए इतना महंगा चारा खरीदना बेहद मुश्किल हो रहा है. चारे की किल्लत को देखते हुए हिसार, सिरसा, फतेहाबाद और पानीपत में धारा 144 लगानी पड़ी. प्रशासन ने इन जिलों में चारे की बिक्री और बाहर भेजने पर रोक लगा दी.

सिरसा और फतेहाबाद जिलों में सूखे चारे की कमी (sirsa fodder shortage) को देखते हुए जिला उपायुक्त ने धारा 144 के तहत जिले से बाहर जाने और ईंट-भट्टों और बॉयलर में इसके प्रयोग पर रोक लगाने का आदेश दिया था. जिला प्रशासन ने पत्र में कहा कि तूड़ी फैक्ट्री में प्रयोग होती है और इसे बाहर भी भेजा जाता है. इससे गौवंश में सूखे चारे की कमी होती है. इसलिए तूड़ी को फैक्ट्री में प्रयोग करने व सिरसा से बाहर भेजने पर प्रतिबंध लगाया जाता है.

(पंजीकरण ) PM Solar Rooftop Subsidy Scheme 2022 | मुफ्त सोलर पैनल योजना ऑनलाइन आवेदन

जेपी दलाल, कृषि मंत्री, हरियाणा :-

सिरसा और फतेहाबाद जिलों में सूखे चारे की कमी (sirsa fodder shortage) को देखते हुए जिला उपायुक्त ने धारा 144 के तहत जिले से बाहर जाने और ईंट-भट्टों और बॉयलर में इसके प्रयोग पर रोक लगाने का आदेश दिया था. जिला प्रशासन ने पत्र में कहा कि तूड़ी फैक्ट्री में प्रयोग होती है और इसे बाहर भी भेजा जाता है. इससे गौवंश में सूखे चारे की कमी होती है. इसलिए तूड़ी को फैक्ट्री में प्रयोग करने व सिरसा से बाहर भेजने पर प्रतिबंध लगाया जाता है.

हरियाणा में चारा महंगा क्यों हुआ- चारा महंगा होने के पीछे कई बड़े कारण बताये जा रहे हैं. पहला यह है कि इस बार पिछले सालों की तुलना में गेहूं की बिजाई बेहद कम की गई थी. क्योंकि सरसों का भाव तेज था इसलिए किसानों ने मुनाफे के लिए सरसों ज्यादा बोई. दूसरा बड़ा कारण ये भी है कि अब हाथ से कटाई की बजाए 90 फीसदी गेहूं की कटाई कंबाइन मशीन से का जाती है. मैनुअल कटाई और कंबाइन से कटाई की तुलना में तूड़ी 30 प्रतिशत तक कम निकलती है. इसके अलावा तीसरा बड़ा कारण ये भी है कि समय से पहले शुरू हुई गर्मी की वजह से भी गेहूं उत्पादन कम हुआ है. भारी गर्मी की वजह से गेहूं की फसल हल्की हो गई. हरियाणा में चारा संकट के चलते गौशालाओं के लिए समस्या खड़ी हो गई है.

संकट में गौशाला संचालक- चारे की किल्लत से सबसे ज्यादा संकट में गैशाला संचालक हैं. केवल सिरसा जिले में करीब 134 पंजीकृत और 18 गैर पंजीकृत गौशालाएं हैं. चारे की कमी को देखते हुए गौशाला संचालकों ने प्रशासन के साथ मीटिंग की और भूसा सस्ता करवाने का अल्टीमेट दिया. आखिरकार प्रशासन को जिले में सूखे चारे की बिक्री और बाहर भेजने पर रोक लगानी पड़ी. वहीं हिसार में गैशाला चला रहे दिलबाग ने ईटीवी भारत से बातचीत में कहा कि चारे के बढ़ते दाम और किल्लत की वजह से हम चारा नहीं खरीद पा रहे हैं. बड़ी संख्या में गौधन संकट में है.

हरियाणा चारा-बिजाई योजना 2022 (Chara Bijai Yojana Haryana)

योजना का नाम        चारा-बिजाई योजना
किसके द्वारा की गई शुरूहरियाणा सरकार द्वारा
कब हुई घोषणा10 मई 2022
उद्देश्यपशुओं तक चारा पहुंचाना
लाभार्थीहरियाणा के किसान
आवेदनऑनलाइन
आधिकारिक वेबसाइटजारी नहीं
हेल्पलाइन नंबरजारी नहीं

हरियाणा चारा-बिजाई योजना को शुरू करने का उद्देश्य

इस योजना को सरकार ने इसलिए शुरू किया है। ताकि इससे पशुपालन में मदद मिल सके। इससे उन्हें बेहतर और अच्छा चारा खाने को मिलेगा। इसके साथ ही किसानों को भी पैसो की मदद हो जाएगी। इससे दो काम आसानी से भी हो जाएगे और राज्य में किसी तरह का कोई संकट भी नहीं पैदा होगा। इस बात की जानकारी खुद प्रदेश के कृषि मंत्री जेपी दलाला ने दी। उन्होंने का इसका उद्देश्य साफ तौर पर राज्य को बेहतर और अच्छा बनाने को लेकर है। जिसके लिए हम हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

हरियाणा में खेती करने वाले लोगों की संख्या काफी अधिक है, साथ ही ऐसे लोगों की भी संख्या ज्यादा है, जो पशुपालन का काम करते हैं। पशुओं को पालने के लिए उन्हें चारा देना पड़ता है।

 इसलिए हरियाणा में कई लोग चारा उगाने का काम भी करते हैं। इन्ही चारा उगाने वाले लोगों को आर्थिक सहारा देने के लिए हरियाणा गवर्नमेंट ने एक कल्याणकारी योजना को हरियाणा राज्य में चालू किया है।

Haryana Chara Bijai Yojana 2022

Haryana government launched the Chaara Bijaee Yojana on 10 May 2022 (Tuesday) to encourage farmers to grow fodder. Farmers can now help gaushalas which have been grappling with fodder shortage amid a rise in the stray cattle population. Under the scheme, farmers who have tied up with gaushalas, will be eligible to receive a financial aid for fodder cultivation.

2022 में Mobile Tower लगाकर करें कमाई (खली जमीन या छत पर) ऐसे करें आवेदन

हरियाणा चारा बिजाई योजना 2022 का लाभ

  • इस योजना के तहत राज्य के सभी किसानो को शामिल किया जायेगा।
  • चारा बिजाई स्कीम 2022 के अंतर्गत हरियाणा के किसानों को सूखा चारा उगाने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • राज्य सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत किसानों को दस हजार रुपये प्रति एकड प्रोत्साहन राशि के रूप में दिए जाएंगे।
  • हरियाणा चारा बिजाई योजना 2022 के अंतर्गत किसान ज्यादा से ज्यादा १० एकड भूमि पर सूखा चारा उगाकर प्रोत्साहन राशि ले सकते हैं।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य की गौशालाओं में पशुओं के चारे की कमी को पूरा किया जाएगा।
  • लाभार्थीयों को मिलने वाला पैसा उनके बैंक खाते में DBT के माध्यम से ट्रांसफर किया जाएगा।

कृषि मंत्री ने कहा कि चारा बिजाई योजना के आने से किसानों को भी लाभ होगा और प्राकृतिक खेती (Natural Farming) को बढ़ावा भी मिलेगा. साथ-साथ गौशालाओं को भी सुविधा होगी. उन्होंने कहा कि चारा अर्थात तूडे़ के लिए राज्य की 569 गौशालाओं को अप्रैल महीने में 13.44 करोड़ रुपये दिए गए हैं. बता दें कि इस साल सूबे में कंबाइन से कटाई और अन्य कारणों की वजह से सूखे चारे का संकट हो गया है, जिसे राज्य सरकार इस योजना के माध्यम से दूर करने का प्रयास करेगी।

हरियाणा चारा बिजाई योजना के लिए दस्तावेज

• आधार कार्ड की फोटो कॉपी

• बैंक अकाउंट की पासबुक

• रंगीन फोटो

• ईमेल आईडी

• फोन नंबर

• खेती के डॉक्यूमेंट

• गौशाला का सर्टिफिकेट

हरियाणा चारा बिजाई योजना के लिए पात्रता

• योजना में सिर्फ हरियाणा के निवासी अप्लाई कर सकते हैं।

• ऐसे व्यक्ति योजना का फायदा प्राप्त कर सकते हैं जो गौशाला के आसपास स्थित जमीन में चारा उगाते हैं और जिनकी गौशाला के साथ सहमति बनी हुई है।

• योजना के लिए व्यक्ति के पास अगर सभी डॉक्यूमेंट उपलब्ध है तभी वह पात्रता रखेगा।

हरियाणा चारा-बिजाई योजना के लिए आवेदन (Chara Bijai Yojana Haryana Registration)

  • इस योजना के लिए आपको ऑनलाइन आवेदन करना होगा। जिससे सीधा आपका रजिस्ट्रेशन हो जाएगा।
  • इसके लिए आपको सरकार द्वारा जारी वेबसाइट पर जाना होगा। जहां आपके सामने होम पेज ओपन होगा।
  • उस होम पेज पर आपको चारा-बिजाई योजना का लिंक दिखाई देगा। इसपर आपको क्लिक करना है।
  • जैसे ही आप चारा-बिजाई योजना के लिंक पर क्लिक करेंगे। आपके सामने सारी जानकारी आ जाएगी।
  • इस जानकारी को सही तरीके से आपको पढ़ना है और उस फार्म पर भरना है। इस बात का ध्यान रखे सही जानकारी भरे।
  • जैसे ही आप जानकारी भर देंगे। आपके सामने दस्तावेज अटैच करने का ऑपशन आएगा।
  • मांगे गए सारे दस्तावेज आपको सही तरीके से अटैच करने हैं वो भी स्कैन करके। इसका ध्यान रहे इसे स्कैन सही करें।
  • इसके बाद जितनी भी जानकारी भरी है उसे रीचैक करें और सबमिट कर दें। आपका आवेदन हो जाएगा।

हरियाणा चारा बिजाई योजना आवेदन प्रक्रिया (Chara Bijai Yojana Haryana Registration)

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा गवर्नमेंट के द्वारा इस योजना को 10 मई को चालू करने की घोषणा की गई है। इसीलिए अभी तक गवर्नमेंट ने इस योजना में कैसे अप्लाई किया जा सकता है अथवा योजना का फायदा कैसे प्राप्त किया जा सकता है, इससे संबंधित कोई भी जानकारी नहीं बताई है, ना ही कोई भी नोटिफिकेशन जारी की गई है।

इसलिए अभी हम आपको इस योजना में अप्लाई कैसे कर सकते हैं, यह बता पाने में असमर्थ है। जैसे ही गवर्नमेंट एप्लीकेशन की प्रक्रिया जारी करती है, वैसे ही आपको उसकी जानकारी इस आर्टिकल में अपडेट करके दे दी जाएगी।

हरियाणा चारा-बिजाई योजना की आधिकारिक वेबसाइट

इस योजना की घोषणा सरकार की ओर से की गई है। उसमें ये बताया गया है कि, आवेदन के लिए वेबसाइट तैयार की जा रही है। जिसके लिए आपको थोड़ा इंतजार करना होगा। जैसे ही ये लॉन्च हो जाएगी। आप कही से भी इसके लिए आवेदन कर पाएंगे।

हरियाणा चारा विजाई योजना हेल्पलाइन नंबर

सरकार नें योजना के तहत अभी कोई भी हेल्पलाइन नंबर जारी नहीं किया है। जैसे ही गवर्नमेंट नंबर जारी करेगी, वैसे ही आपको जानकारी इस आर्टिकल में अपडेट करके दे दी जाएगी।

चारा बिजाई योजना की शुरुआत किसने की?

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल

चारा बिजाई योजना की शुरुआत कब हुई

10 मई को

चारा-बिजाई योजना किसके द्वारा की गई शुरू

इस योजना को हरियाणा सरकार ने शुरू किया है

चारा-बिजाई योजना में कितनी मिलेगी धनराशि

10 हजार रूपये प्रति एकड़ मिलेगी धनराशि

चारा-बिजाई योजना में किसानों से कैसे लेगी सरकार मदद

किसानों से चारा लेकर लेगी सरकार मदद

क्या है चारा-बिजाई योजना को शुरू करने का सही मकसद

गौशालाओं में चारा पहुंचाना

Leave a Comment

%d bloggers like this: